Fast Newz 24

Bank loan: लोन लेने से पहले इन बातों का रखें खास ध्यान


वहीं, ज्यादा लोन लेना भी परेशानी का सबब बन सकता है। इससे आप पर लोन की किश्तों और ब्याज का भार बहुत बढ़ जाएगा।
 
लोन लेने से पहले इन बातों का रखें खास ध्यान

Fast News24: कोई नौकरी करता है, तो कोई अपना बिजनेस (Business) करता है ताकि उसकी आजीविका चलती रहे और उसके पास पैसों की कोई दिक्कत न हो। लेकिन इस बात में कोई दो राय नहीं कि आज के महंगाई भरे जमाने में हर चीज महंगी होती जा रही है। इसलिए लोग अपनी कमाई बढ़ाने पर भी ध्यान देते हैं। वहीं, कई बार कुछ ऐसे काम सामने आ जाते हैं, जिनको पूरा करने के लिए काफी पैसों की जरूरत होती है।

जैसे- शादी, पढ़ाई, घर बनाना आदि। ऐसे में लोग लोन लेने की तरफ देखते हैं। दरअसल, आप पर्सनल लोन (personal loan) से लेकर होम और कार लोन जैसे कई अन्य लोनलोन की EMI कम करने के तरीके क्या हैं बैंक या एनबीएफसी कंपनियों (प्राइवेट कंपनियां) से ले सकते हैं। लेकिन लोन लेने के चक्कर में लोग कुछ बातों को भूल जाते हैं, जिसका असर उनकी ईएमआई पर पड़ता है। तो चलिए जानते हैं ऐसी 3 बातों के बारे में जिनका ध्यान रखकर आपकी ईएमआई कम हो सकती है। 

1. सबसे पहले तो यह तय करें कि आपको अपनी किस महत्वपूर्ण जरूरत के लिए लोन लेना चाहिए। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि आपकी जरूरत के लिए कितने रुपयों की आवश्यकता होगी। अगर आप जरूरत से ज्यादा लोन लेते हैं, तो इससे आपको बाद में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। 

2. आप अपने लोन को समय से पहले भी चुका सकते हैं। इसके लिए अलग-अलग बैंक का अलग-अलग प्रिपेमेंट चार्ज होता है। बहुत से बैंक एक साल से पहले ग्राहक को यह सुविधा नहीं देते हैं। आपको लोन लेते समय इसकी जानकारी होनी चाहिए।

3. लोन लेते समय आपको लोन पर लगने वाली ब्याज दरों की पूरी जानकारी होनी चाहिए। ब्याद दरें फिक्सड और वेरिएबल दो प्रकार की होती हैं। फिक्स्ड ब्याज दरों में कोई परिवर्तन नहीं होता, जबकि वेरिएबल ब्याज दरों में मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड बेस्ड लेंडिंग रेट के अनुसार, ब्याज दरें तय होती है। आपके लोन पर कौनसी ब्याज दर लग रही है, इसकी आपको जानकारी होनी चाहिए।

4. लोन लेने से पहले मार्केट रिसर्च जरूर करना चाहिए। लोन पर बैंकों की ब्याज दरों में बहुत फर्क होता है। हमेशा कम ब्याज दर वाले बैंक से ही लोन लें।

5. सबसे महत्वपूर्ण होता है, समय पर अपने लोन का भुगतान करना। इससे आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा रहता है और भविष्य में लोन लेने में भी सुविधा होती है।