Fast Newz 24


Home Loan लोने वाले हो जाएं अलर्ट, न भरने पर बैंक करेगा ये कार्रवाई


अगर आप एक या दो EMI मिस करते हैं तो Bank तुरंत कार्रवाई नहीं करता है. लगातार तीन EMI मिस करने पर Bank आपको पहले नोटिस जारी करता है.
 
 Home Loan लोने वाले हो जाएं अलर्ट, न भरने पर बैंक करेगा ये कार्रवाई

Fast News24:  RBI ने 1 अक्टूबर 2019 को Home Loan के लिए फ्लोटिंग Inrterest Rate के नियम की घोषणा की थी. ज्यादातर Bank Repo Rate को लोन के लिए बेंचमार्क मानते हैं. इस time यह पिछले दो दशक के down स्तर पर है. ऐसे में बॉरोअर्स को cheap लोन का लाभ मिलता रहेगा. वर्तमान Home Loan धारकों की EMI में कोई बदलाव नहीं होगा.

अगर लोन लेने वाला लगातार छह महीने तक EMI का भुगतान नहीं करता है तो Bank आपके आखिरी बार दो महीने का ग्रेस पीरियड देगा जिससे कि आप दोबारा EMI को जारी कर सकें. इन तमाम कोशिशों के बाद भी अगर EMI जमा नहीं हो पाती है तो Bank ऐसे लोन को लोन परफॉर्मिंग असेट यानी NPA घोषित कर देता है. अब Bank आपकी Property को सीज कर उसकी नीलामी की प्रक्रिया पर आगे बढ़ सकता है.

SARFAESI Act 2002 Banks को यह अधिकार देता है कि वह loan लेने वालों की Property की नीलामी करे. इसके जरिए Bank अपने NPA के बोझ को कम करता है. इसके लिए Bank को किसी Court से मंजूरी की जरूरत नहीं होती है. लेकिन Bank पहले इस बात का प्रयास करता है कि किसी तरह EMI दोबारा शुरू हो जाए. जब सारे विकल्प बंद हो जाते हैं तब Bank किसी भी Property की नीलामी की process में आगे बढ़ता है.

Home Loan लेने वालों में अधिकतर लोग ऐसे हैं जिनकी income का बड़ा हिस्सा हर महीने EMI के रूप में जाती है. ऐसे में अगर होम का मुख्य कमाने वाला बेरोजगार हो जाता है तो मुश्किलें काफी बढ़ जाती हैं. अगर आपके साथ भी ऐसा होता है तो इस बात को समझें कि Inrterest की राशि हर महीने आपके ओवरऑल बैलेंस में जुड़ती जाती है. इससे loan का टेन्योर तो बढ़ेगा ही साथ में कई और मुश्किलें आ सकती हैं.

ऐसे हालात में सबसे पहले अपने Bank से संपर्क करें और उन्हें अपनी परिस्थिति के बारे में खुलकर बताएं. अगर आपका क्रेडिट हिस्ट्री अच्छा है और आपने लगातार EMI का भुगतान किया है तो Bank आपको जरूर मोहलत देगा. Bank आपके Home Loan की तारीख को भी बढ़ाने का अधिकार रखता है जिससे EMI कम हो जाएगी.

Bank जिस दिन नीलामी की तारीख का ऐलान करता है उससे पहले तक लोन लेने वालों के पास अपनी Property हासिल करने का मौका होता है. वे Bank को due payment कर इस नीलामी की proess को रोक सकते हैं. इसके अलावा Bank की तरफ से नीलामी की प्रक्रिया की घोषणा के कारण भी कुछ चार्ज अलग से पे करना होगा.