Fast Newz 24

property will: प्रोपर्टी की वसीयत करवाना क्यों है जरुरी, जानिए कानूनी बातें


वसीयत का निर्माण इसलिए किया जाता है क्योंकि इससे संपत्ति के मालिक की मौत के बाद उत्तराधिकार को लेकर विवाद की स्थिति नहीं बने. 
 
प्रोपर्टी की वसीयत करवाना क्यों है जरुरी, जानिए कानूनी बातें

Fast News24: जो भी व्यक्ति 18 साल से अधिक उम्र का है, जिसके पास संपत्ति, जीवन बीमा पॉलिसी है और जो मानसिक रूप से स्वस्थ है वह अपनी वसीयत बना सकता है. वसीयत को लेकर कई लोगों के अलग-अलग मत है.

कई लोग इसे जरूरी नहीं समझते और इसे बनाने में झंझट महसूस करते हैं. लेकिन कई लोग ऐसे है जो अपनी वसीयत बनाकर रखते हैं. तो क्या आपने भी वसीयत बनानी चाहिए ? इसे कैसे बनाया जाता है ? आइये जानते हैं वसीयत से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां.

वसीयत बनाना क्यों जरूरी है ?

संपत्ति का मालिक जीवित रहते ही इस बात का फैसला कर लेता है कि उसके जाने के बाद उसकी संपत्ति पर किसका अधिकार होगा.

यदि किसी के बच्चे नाबालिग है तो उन्हें वसीयत बनानी ही चाहिए. क्योंकि माता-पिता की मौत के बाद बच्चों के नाम पर संपत्ति उनके 18 वर्ष के होने पर की जाती है. इसके पहले उनकी देखरेख और वित्तीय फैसलों की जिम्मेदारी किसी को सौंप दी जाती है. इसीलिए यदि पहले से बच्चों की जिम्मेदारी किसी भरोसेमंद व्यक्ति के नाम पर सौंपी जाए तो बच्चों की परवरिश अच्छे से हो जाएगी.

संपत्ति का बंटवारा ही मृतक के परिवारजनों या उनके रिश्तेदारों के बीच विवाद का कारण बनता है. इसीलिए वसीयत के जरिये इस विवाद को पनपने से पहले ही खम किया जा सकता है. आप चाहे तो वसीयत में कई बदलाव कर सकते हैं.

वसीयत बनाते समय रखें इन बातों का ख्याल

व्यक्ति का नाम, पिता / पति का नाम, घर का पता, जन्मतिथि
वसीयत लिखने की तारीख और लिखने का उल्लेख.
वसीयत लिखते समय आपको यह लिखना होता है कि आप अपनी मर्जी से बिना किसी के दबाव में आकर वसीयत बना रहे हैं.
वसीयत में सम्पत्ति का ब्यौरा और लाभार्थी यानी उत्तराधिकारी के बारे में जानकारी. इसमें एक से ज्यादा उत्तराधिकारी का नाम भी जोड़ सकते हैं.
साड़ी संपत्ति, बीमा पॉलिसी, फंड का उल्लेख करने के बाद आपको हस्ताक्षर करने होंगे. साथ ही गवाह के भी हस्ताक्षर करने जरूरी है.
इसके बाद वसीयत की मूल प्रति को किसी सुरक्षित स्थान पर रखें और उसकी कॉपी को दुसरे स्थान पर रखना चाहिए.
यह किसी भी भाषा में लिखी जा सकती है.
वसीयत को कितनी भी बार बदला या रद्द किया जा सकता है. इसलिए आपको कोई STAMP स्टांप शुल्क देने की आवश्यकता नहीं है.