Fast Newz 24

Supreme Court Decision: प्रोपर्टी पर कब्जा करने से पहले जान लें ये बातें

मामले में याचिकाकर्ता का कहना था कि प्रतिवादी का दावा सही नहीं है क्योंकि जिन दस्तावेज के आधार पर उन्होंने दावा फाइल किया है वह दस्तावेज मान्य नहीं है। 
 
 प्रोपर्टी पर कब्जा करने से पहले जान लें ये बातें

Fast News24: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court Decision) ने कहा है कि अचल संपत्ति के मालिकाना हक (real estate ownership) ट्रांसफर बिना रजिस्टर्ड दस्तावेज के आधार पर नहीं हो सकता। अदालत ने कहा है कि ट्रांसफर ऑफ प्रॉपर्टी एक्ट के तहत रजिस्टर्ड दस्तावेज के आधार पर ही संपत्ति का ट्रांसफर हो सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि रजिस्ट्रेशन एक्ट 1908 के तहत यह प्रावधान है कि संपत्ति का मालिकाना हक तभी हो सकता है जब दस्तावेज रजिस्टर्ड हो।

मामले में सुप्रीम कोर्ट में याचिकाकर्ता ने कहा कि वह संपत्ति का मालिक है और उसे यह संपत्ति उसके भाई ने गिफ्ट डीड के तौर पर दी थी और इस तरह यह संपत्ति उसकी है और संपत्ति पर उसका कब्जा है। वहीं प्रतिवादी ने संपत्ति के लिए दावा पेश करते हुए कहा था कि उसके पक्ष में पावर ऑफ अटॉर्नी, हलफनामा और एग्रीमेंट टु सेल है।

साथ ही याची ने कहा कि गिफ्ट डीड से संबंधित उनके पास साक्ष्य हैं। SC के सामने यह भी तथ्य रखा गया कि किसी भी अचल संपत्ति का मालिकाना हक (real estate ownership) बिना रजिस्टर्ड दस्तावेज के नहीं हो सकता है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह तयशुदा कानूनी व्यवस्था है कि बिना रजिस्टर्ड दस्तावेज के अचल संपत्ति के मालिकाना हक का ट्रांसफर नहीं हो सकता है। इन सिद्धांतों के आधार पर प्रतिवादी का सूट (संपत्ति का दावा) नहीं टिकता है और उक्त आधार पर इसे खारिज किया जाता है और याचिकाकर्ता की अपील स्वीकार किया जाता है।