Fast Newz 24

भारत देश के अब नहीं लेगे आर्मी सेना में नेपालियों की भर्ती, और गोरखा रेजीमेंट से लेकर नेपाल पर भरोसे की बात, जानें.....

पिछले कई सालों से नेपाल के साथ रिश्तों में आ रहे उतार-चढ़ाव को देखते हुए भारत ने एक बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत अब भारतीय सेना में नेपालियों की भर्ती नहीं की जाएगी. भारत के फैसले से नेपाल को अंदर ही अंदर तगड़ा झटका लगना तय है.
 
भारत देश के अब नहीं लेगे आर्मी सेना में नेपालियों की भर्ती, और गोरखा रेजीमेंट से लेकर नेपाल पर भरोसे की बात, जानें.....

Haryana Update: हालांकि, भारत ने इस फैसले के पीछे कोई खास वजह नहीं बताई है. लेकिन माना जा रहा है कि हाल के वर्षों में नेपाल का भारत के खिलाफ रुख और चीन के साथ बढ़े रिश्ते इसकी वजह हो सकते हैं। भारत भी शायद नेपाल को संदेश भेजने की कोशिश कर रहा है. ताकि नेपाल अपना रवैया बदले और चीनी गाने गाना बंद कर दे.

Pakistan Army मे भड़की विद्रोह की चिंगारी, सेना के 6 अफसर आर्मी चीफ और सरकार के खिलाफ हो गए

 

भारतीय सेना गोरखाओं की भर्ती करती रही है

अब तक भारतीय सेना गोरखाओं की भर्ती करती रही है. ये नेपाली सैनिक पहाड़ों पर चढ़ने में बहुत अच्छे हैं। मिनटों और सेकेंडों में वह ऊंचे पहाड़ों पर चढ़ जाता है. भारतीय सेना की एक अलग गोरखा रेजिमेंट है। यह भारत और नेपाल के पुराने रिश्ते और विश्वास का भी प्रतीक है। लेकिन अब भारत ने अग्निवीर योजना में नेपालियों को भर्ती करना बंद कर दिया है. इससे नेपाल में हड़कंप मचना तय है. 


फैसले के बाद, भारत में नेपाल के राजदूत शंकर प्रसाद शर्मा ने सोमवार को कहा कि अग्निपथ योजना के तहत नेपाल से भारतीय सेना में गोरखाओं की भर्ती "रोक" दी गई है, लेकिन मामला खत्म नहीं हुआ है। शर्मा ने यहां संवाददाताओं से कहा कि फिलहाल इस मुद्दे पर दोनों देशों की सरकारों के बीच कोई ''गंभीर बातचीत'' नहीं हुई है। उन्होंने कहा, ''मुझे नहीं लगता कि इस पर मामला बंद हो गया है।''


 भारत ने अग्निपथ पर कुछ तंत्र विकसित किया है और नेपाल से भर्ती के लिए उसी तंत्र का उपयोग करना चाहेगा। नेपाल कुछ और कह रहा है. हम पुरानी व्यवस्था चाहते हैं. बस यही मुद्दा है।'' उन्होंने कहा, ''यह अभी तक बंद नहीं हुआ है लेकिन मैंने दोनों देशों के बीच कोई गंभीर बातचीत होते नहीं देखी है, इसलिए मैं बस यही कहूंगा कि यह रुकी हुई है।''

Army Day 2023: पहली बार दिल्ली से बाहर हो रही आर्मी परेड, 1949 से चली आ रही परंपरा

Tags: "Nepalis,Nepal,India will no longer recruit Nepalis in the army, know whether Nepal is no longer trustworthy,Indian Army, Gorkha Regiment, India-Nepal Relations, भारत अब नहीं करेगा सेना में नेपालियों की भर्ती, जानें क्या नेपाल नहीं रहा अब भरोसे के काबिल, भारतीय सेना, गोरखा रेजीमेंट, भारत-नेपाल संबंध"haryana news